29/06/2022

🙏 Good morning 🌄😀 : इस मानसून, एक पौधा जरूर लगाएं, पर्यावरण को नष्ट होने से बचाएं।

पानी कितना अनमोल है यह हमें तब समझ में आता है, जब मई-जून की गर्मी में हमारे नलों में पानी गायब हो जाता है। जब हमारे बोरिंग जवाब दे जाते हैं और टेंकर से पानी डलवाकर पैसा व ऊर्जा खर्च करनी पड़ती है। ग्रामीण क्षेत्रों में तो स्त्रियां मीलों दूर से सिर पर दो-दो मटके पानी ढोकर लाती हैं। नलों पर खाली बर्तन लिए गरीब और झुग्गी झोपड़ी वाले लंबी कतार में लगे रहते हैं और एक-एक बाल्टी पानी के लिए जान लेने तक को उतारू हो जाते हैं। एक तरह पीने के पानी के लिए तरसता विशाल जनसमुदाय, पानी जीवन का मुख्य घटक है। पेड़-पौधों से वाष्पीकृत जल ही बादल बन गगन में एकत्रित होता है व अमृत बन पुनः धरती की क्षुधा को शांत करता है। जलचक्र से ही प्रकृति का प्रबंधन चलता है। पर्यावरण अर्थात वह आवरण जो पृथ्वी को घेरे है, जिसमें वायु, जल, सौर ऊर्जा सब कुछ समाता है हमारे जीवित रहने, स्वस्थ रहने का मार्ग प्रशस्त करता है।

पेड़-पौधे प्रकृति की सुकुमार, सुन्दर, सुखदायक सन्तानें मानी जा सकती हैं । इनके माध्यम से प्रकृति अपने अन्य पुत्रों, मनुष्यों तथा अन्य सभी तरह के जीवों पर अपनी ममता के खजाने न्यौछावर कर अनन्त उपकार किया करती है । स्वयं पेड़-पौधे भी अपनी प्रकृति माँ की तरह से सभी जीव-जन्तुओं का उपकार तो किया ही करते हैं। उनके सभी तरह के अभावों को दूर करने के साधन भी है । पेड-पौधे और वनस्पतियाँ हमें फल-फूल, औषधियाँ, एवं अनन्त विश्राम तो प्रदान किया ही करते हैं, वे उस प्राणवायु (ऑक्सीजन) का अक्षय भण्डार भी हैं की जिसके अभाव में किसी प्राणी का एक पल के लिए जीवित रह पाना भी असंभव है। इसी प्रकार पेड़ – पौधे हमारे पर्यावरण के भी बहुत बड़े संरक्षक हैं। पेड़ – पौधों की पत्तियां और ऊपरी शाखाएँ सूर्य किरणों के लिए धरती के भीतर से आर्द्रता या जलकण पोषण करने के लिए नलिका का काम करते हैं । जैसा कि हम जानते हैं सूर्य किरणें भी नदियों और सागर से जलकणों का शोषण कर वर्षा का कारण बना करती हैं, पर उससे भी अधिक यह कार्य पेड़-पौधे किया करते हैं । सभी जानते हैं कि पर्यावरण की सुरक्षा तथा हरियाली के लिये वर्षा का होना कितना आवश्यक हुआ करता है। पेड़-पौधे वर्षा का कारण बन कर तो पर्यावरण की रक्षा करते ही हैं, इनमें कार्बनडाई ऑक्साइड जैसी विषैली, स्वास्थ्य विरोधी और घातक कही जाने वाली प्राकृतिक गैसों का पोषण और शोषण करने की भी बहुत अधिक शक्ति रहा करती है । स्पष्ट है कि ऐसा करने पर भी वे हमारी धरती पर्यावरण को सुरक्षित रखने में सहायता ही पहुँचाया करते हैं।पेड़-पौधे वर्षा के कारण होने वाली पहाड़ी चट्‌टानों के कारण नदियों के तहों और माटी भरने से तलों की भी रक्षा करते हैं। आज नदियों का पानी जो उथला या कम गहरा होकर गन्दा तथा प्रदूषित होता जा रहा है उसका एक बहुत बड़ा कारण उनके तटों, निकास स्थलों और पहाड़ों पर से पेड़-पौधों की अन्धाधुन्ध कटाई ही है। इस कारण जल स्रोत तो प्रदूषित हो ही रहा है, पर्यावरण भी प्रदूषित होकर जानलेवा बनता जा रहा है। यदि हम चाहते हैं कि, हमारी यह धरती, इस पर निवास करने वाला प्राणी जगत बना रहे हैं तो हमें पेड़-पौधों की रक्षा और उनके नवरोपण आदि की ओर प्राथमिक स्तर पर ध्यान देना चाहिए । यदि हम चाहते हैं कि धरती हरी- भरी रहे, नदियाँ अमृत जल धारा बहाती रहें और सबसे बढ़कर मानवता की रक्षा संभव हो सके, तो हमें पेड़-पौधे उगाने, संवद्धित और संरक्षित करने चाहिए, इसके अलावा अन्य कोई उपाय नहीं ।

पर्यावरण संरक्षण में आम जन क्या योगदान दे सकता है

मानसून में लगाए जाएं पौधे : पर्यावरण की सुरक्षा के लिए सबसे आवश्यक है संतुलन। फ्रीज, एसी व लाखों वाहन संचालित हो रहे हैं। इससे तेजी से पर्यावरण व प्रकृति बदल रही है, जिससे नई बीमारियां पैदा होती जा रही हैं। जितना नुकसान हम प्रकृति का कर रहे हैं उतनी भरपाई नहीं कर पा रहे। मानसून के आगमन के साथ अगर देश का हर नागरिक प्रति वर्ष एक पौधा लगाने व उसके पोषण का निश्चय करे तो निश्चित ही वातावरण शुद्ध होने लगेगा। इसके अलावा भूमिगत जल स्तर का ध्यान भी रखना होगा। वाटर हार्वेस्टिंग एक महत्वपूर्ण तकनीक है। जल स्तर बनाये रखने के लिए नदियों व छोटे नालों का ख्याल रखना जरूरी है। जिस तरह हम प्रकृति का दोहन कर रहे हैं, पर्यावरण को बहुत नुकसान पहुंचा है। इसे सुधारने पर ध्यान देना ही होगा।

सभी को लगाने चाहिए पौधे : लोगों में जागरूकता लाकर हम पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान दे सकते हैं। उन्हें पेड़ों की महत्ता को समझाएं, ऑक्सीजन की कमी से बचने के लिए हर नागरिक को घर के आंगन में अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाने चाहिए तथा उनकी सार संभाल करनी चाहिए। जन्मदिन, वर्षगांठ तथा संतान के जन्म पर सार्वजनिक स्थानों पर पौधे लगाने की परंपरा शुरू करें। यदि अपने प्रियजनों के जन्मदिन, वैवाहिक वर्षगांठ या पुण्यतिथि पर केवल एक पौधा लगाकर उसके पालन पोषण का संकल्प ले लिया जाए तो भी काफी हद तक पर्यावरण क्षरण को बचाया जा सकता है।

वृक्षारोपण सबकी जिम्मेदारी : पर्यावरण संरक्षण के लिए आमजन का वृक्षारोपण करना बहुत जरूरी है। हरे पेड़ों को ना तो स्वयं कांटे, और ना ही किसी को काटने दें।  सभी नागरिकों को पेयजल स्रोतों के आस-पास साफ-सफाई रखनी चाहिए और वर्षा जल का संचय करना चाहिए। पर्यावरण को संरक्षित एवं सुरक्षित रखने के लिए ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण ध्यान दिया जाना चाहिए। साथ ही पौधों की देखभाल नियमित रूप से करनी चाहिए क्योंकि शुद्ध पानी, पेड़ और शुद्ध हवा ही अनमोल दवा है।

पौधारोपण की खानापूर्ति न करें : पर्यावरण संरक्षण में जितनी भूमिका आमजन की है, उतनी शायद सरकारों और विभिन्न संगठनों के साथ संस्थाओं की नहीं हो सकती है। सरकारें और संस्थाएं आमजन को जागरूक करने के मुहिम चला सकती हैं, लेकिन धरातल पर उसका क्रियान्वयन आमजन के द्वारा ही संभव है। हर व्यक्ति जीवन में एक पौधा जरूर लगाए और उसकी अच्छे से परवरिश करे, तभी पर्यावरण संरक्षण को गति मिलेग। पौधारोपण की खानापूर्ति न करें।

वृक्षों, पशु-पक्षियों को नुकसान पहुंचाने वालों के लिए कड़ी सजा का प्रावधान हो व प्राकृतिक संपदाओं विशेषकर जल की बूंद-बूंद सहेजने के प्रयास हो तथा दुरूपयोग करने वाले को समाज पापी व घृणित कृत्य करने वाला समझें, तभी जल का सम्मान जीवित रहेगा। मात्र पर्यावरण दिवस मनाकर नहीं। स्वहित में हर स्तर पर हर एक को इकोफ्रेंडली बनने का धर्म सर्वोपरि समझना होगा।

RO No. 12111/113

SR Hospital 13 Oct 2020
Milstone 1 feb 2022
Sparsh 14 march 2022
SBS Hospital 20 april 2022
Nayantara-17-November-2021 new
Abs foundation 6 Jin 2022
Frofaitional career 8 June 2022
Jully Add 1
Shamsher shidhiqi 10 july 2022
Atul chand sahu 6 august 2022
IMG-20220803-WA0006
Keshav banchor 6 August 2022
SR Hospital 13 Oct 2020 Milstone 1 feb 2022 Sparsh 14 march 2022 SBS Hospital 20 april 2022 Nayantara-17-November-2021 new Abs foundation 6 Jin 2022 Frofaitional career 8 June 2022 Jully Add 1 Shamsher shidhiqi 10 july 2022 Atul chand sahu 6 august 2022 IMG-20220803-WA0006 Keshav banchor 6 August 2022

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed